Call Us: +91-9971316805, +91-7982388085

Current Affair 18 April 2020 : Current_affairs


Many events happen in our surrounding or around the world on every momment. These all events are important for us as well as we descuss about this to each other. So many these events are asked in exams so we learn thses events as current affairs.


Read about the current_affairs the latest topic Current Affair 18 April 2020


Current Affair 18 April 2020


Current Affair 18 April 2020


1. भारत में रिवर्स ट्रांसक्रिप्शन पॉलीमरेज़ चेन रिएक्शन (RT-PCR) टेस्ट का उपयोग SARS-CoV-2 वायरस या कोरोना वायरस के परीक्षण के लिए किया जाता है। यह एक महंगी परीक्षण पद्धति है क्योंकि यह परीक्षण आयातित मशीनों का उपयोग करके किया जाता है और नमूना लेने के बाद परिणाम प्रदान करने में 5 घंटे से अधिक समय लगता है। हाल ही में तिरुवनंतपुरम के श्री चित्रा तिरुनल इंस्टीट्यूट फॉर मेडिकल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी के वैज्ञानिकों ने एक नैदानिक किट ‘चित्रा जीन एलएएमपी-एन’ विकसित की है, जो आरटी-एलएएमपी तकनीक का उपयोग करती है। यह कम खर्चीला है और दो घंटे से भी कम समय में परिणाम दे सकता है।

2. नई दिल्ली स्थित भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (ICAR), जिसे आमतौर पर पूसा संस्थान के रूप में जाना जाता है, ने हाल ही में ‘पूसा परिशोधन और स्वच्छता सुरंग’ विकसित की है। इसमें साबुन और पानी के डिस्पेंसर का उपयोग करके हाथ धोने की व्यवस्था की गयी है, इसे पैर से ऑपरेट किया जाता है। जबकि स्वच्छता सुरंग में क्वाटरनरी अमोनियम कम्पाउंड्स (QAC) का उपयोग किया जाता है।

3. राष्ट्रीय ग्रामीण विकास व पंचायती राज संस्थान (NIRDPR) ने यूनिसेफ हैदराबाद फील्ड ऑफिस के साथ सहयोग किया है। NIRDPR और यूनिसेफ, हैदराबाद फील्ड कार्यालय की संचार संसाधन इकाई (CRU) ने पंचायती राज संस्थानों, स्वयं सहायता समूहों, राष्ट्रीय सेवा योजना के अधिकारियों और स्वयंसेवकों के लिए स्वच्छता और सामाजिक उपायों के अभ्यास के लिए एक ऑनलाइन कार्यक्रम विकसित किया है।

4. गार्टनर 2019 डिजिटल कार्यस्थल सर्वेक्षण के अनुसार भारत विश्व का सबसे डिजिटल कुशल देश है। भारत में सबसे बड़ा जेन जेड वर्कफोर्स है जो डिजिटल तकनीकों का उपयोग करके नए कौशल सीखने के लिए भी इच्छुक है। इस सर्वेक्षण के अनुसार, भारत में 67 प्रतिशत डिजिटल वर्कर्स का मत है कि मशीन लर्निंग (एमएल), कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई) और इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IoT) जैसी उभरती प्रौद्योगिकियां कार्यस्थलों पर दक्षता बढ़ाती हैं। इस सर्वेक्षण में भारत के बाद ब्रिटेन और अमेरिका का स्थान है।

5. इंटरनेशनल कमीशन ऑफ ज्यूरिस्ट्स (ICJ), जिसका मुख्यालय स्विट्जरलैंड के जिनेवा में है, ने हाल ही में भारत सरकार को प्रवासी श्रमिकों के न्यूनतम जीवन स्तर को सुनिश्चित करने के लिए प्रभावी उपाय करने का निर्देश दिया, जो COVID-19 लॉकडाउन से काफी प्रभावित हुए हैं। भारत ने कोरोनोवायरस के प्रसार को रोकने के लिए 25 मार्च से 14 अप्रैल तक राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन घोषित किया और बाद में इसे 3 मई तक बढ़ा दिया गया।

6. मध्य पूर्व क्षेत्र के सबसे बड़े एयर कैरियर एमिरेट्स ने यात्रियों के लिए दुनिया का पहला 10 मिनट का कोरोनावायरस रक्त परीक्षण शुरू किया है, जो दुबई से प्रस्थान कर रहे हैं। दुबई के स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा साइट पर तेजी से रक्त परीक्षण किया जा रहा है।

7. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने हाल ही में 3 मई, 2020 तक विस्तारित लॉक-डाउन पर संशोधित दिशानिर्देशों की घोषणा की है। दिशानिर्देशों के अनुसार हवाई, रेल, मेट्रो, सार्वजनिक बसों, टैक्सियों, कैब एग्रीगेटरों द्वारा यात्रा निलंबित रहेगी। हालांकि, नगर निगमों और नगर पालिकाओं की सीमा के बाहर ग्रामीण क्षेत्रों में काम करने वाले उद्योगों को छूट दी जाएगी। उद्योगों को सामाजिक दूरी और स्वच्छता के उपायों को बनाए रखना होगा।

8. गृह मंत्रालय ने लॉक डाउन 2.0 के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं। नए दिशानिर्देशों के अनुसार राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत सार्वजनिक स्थानों पर थूकना अपराध घोषित किया गया है। दिशानिर्देशों में सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया गया है। आपदा प्रबंधन अधिनियम की धारा 51 के तहत सार्वजनिक स्थान पर थूकना दंडनीय अपराध बनाया गया है। आदेश का पालन न करने पर एक साल तक कारावास की सजा हो सकती।

9. इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के शोधकर्ताओं ने हाल ही में दो चमगादड़ प्रजातियों में एक और तरह के कोरोनावायरस की उपस्थिति की खोज की है। यह बैट कोरोनावायरस (BtCoV) नामक नया विषाणु पांच राज्यों (केरल, हिमाचल प्रदेश, पुडुचेरी और तमिलनाडु) में दो प्रजातियों में पाया जाता है। इस बात का कोई प्रमाण नहीं है कि यह विषाणु मनुष्य में रोग का कारण बन सकता है।

10. संघ लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष तथा सदस्यों ने 1 अप्रैल से अगले एक वर्ष तक अपने मूल वेतन में 30% की कटौती को मंज़ूरी दी है। इससे पहले केंद्र सरकार के अधीन कई संस्थाओं के अध्यक्षों ने अपने वेतन में 30% की कमी की घोषणा की है। इसमें केन्द्रीय सूचना आयुक्त तथा अन्य सूचना आयुक्त, मुख्य चुनाव आयुक्त तथा अन्य चुनाव आयुक्त शामिल हैं।

Current Affairs:

Category Lists